Skip to main content

Father's Thought for a Daughter on Goa Beach



समंदर
तुम्हारा अनंत विस्तार,
मानो क्षितिज से
वर्चस्व के युध्ध में
निरंतर रत है;
मेघ जैसे उतर आये हैं
बचपन के मित्र की तरह
तुम्हारे माथे के स्वेद बिन्दुओं को
पोछ देने को,
और सूरज जैसे कोई उत्सुक
राहरौ, माने ठिठक के
इस अनवरत अभियान को तक रहा हो
ना जीतने वाला है कोई उसका
न कोई हारने वाला|
थक कर थोड़ी देर में
अपनी राह चल देगा वोह
और चल देगा,
तुम्हारा दोस्त बादल
और तुम
यूँ ही उलझे रह जाओगे
इस अनवरत अभियान में
ना कोई हाथ थामेगा
न कोई रक्त पोछेगा|
बस एक नन्ही नदी
तेरी बेटी, अश्रु पूरित नेत्रों से
तुम्हें संघर्ष रत
तकती रहेगी, तुम्हारे पांव दाबेगी
तुम्हारा माथा चूमेगी
और अपनी राह में बटोरे
सारे दर्द, सारी हंसी, सारा प्यार
तुम्हारी छाती से लग कर
तुम्हें सब सौंप देगी,
और अपनी सब उदासी,
तुम्हारी खामोशी में गर्क कर देगी
और उस वक़्त, ये निरर्थक सा दीखने वाला अभियान
अटल एक अर्थ पा लेगा
जो तुम एक धरोहर पानी की
क्षितिज पे जीत की सूरत
उफक के हाँथ सौपोगे
जिसे वोह पर्वतों के पार जाकर
उसी नन्ही सी बेटी को,
निरंतरता की शक्ल सौंपेगा/
और तुम एक पर्वतों से टूटती
नन्हे प्रपात में
बह निकालोगे.

O Great Ocean
Your grand expanse
seem to be engaged
an unending, eternal
struggle for dominance,
against the Horizon
Looming over your being.
Clouds though have come down
like long lost friends of childhood
to wipe the sweat that appears on
your weary forehead.
And the Sun
as if a curious passer by
stands by to watch the eternal struggle,
with mere curousity
and no interest towards
the winner or the loser in this struggle;
will get bored and move on his way
So will your friend
Cloud will also go his way,
All you will be left with
will be a tiny rivulet
Your little daughter
with moist eyes,
will stay back ,
Massage your bruised knees,
and kiss your weary forehead,
And in your embrace
loose all that she had collected on the way
all the pain, laughter and love
and submerge all the sadness of the way
in her Father's silence
and it will be the moment,
when this seemingly
futile and needless struggle
will find a meaning, an eternal meaning
as you will put some water in
the custody of the Horizon so far,
A victor,
burdening him to carry it off to
far mountains,
as you render longetivity and
continuity to your daughter and life itself
when it will break into a
tiny stream in the mountains, after the rain.



 

Comments

This is absolutely stunning !! god bless your little girl,god bless all our little girls !!
Saket Suryesh said…
Thank Pooja. I am glad you visited and liked it. And yes..god bless all our little girls..

Popular posts from this blog

दो जोड़ी नन्ही आँखें

अनदेखे ख़्वाबों की दो जोड़ी नन्हीआँखें, जिन्होंने स्वप्न देखने की आयु से पूर्व दु:स्वप्न देख आँखें मूँद लीं। जो क़दम अभी चलना ही सीखे थे, लड़खड़ा कर थम गए। बचपन के घुटने पर लगी हर खरोंच, व्यस्कों के गाल पर एक तमाचा है। धर्म के आडंबरों से अछूता बाल मन जो मंदिरों और मस्जिदों को अपनी आत्मा में रखता था, धर्म की दरारों पर अपना नन्हा शव छोड़ निकल पड़ा। कहीं दूर,दग्ध शरीर के ताप से दूर, जब यह अकलुषित हृदय पहुँचा तो एक और निष्पाप दूधिया आत्मा दिखी, जिसकी पलकों के कोरों में उसकी आँखों के जैसे ही अविश्वास से सहमा हुआ अश्रु रूका था। एक दूसरे के गले लग कर दोनों बाल मन दरिया के टूटे बाँध की तरह बह निकले। घाव बाँटे, एक दूसरे के हृदय में चुभी धरती की किरचें निकाली और न देखे हुए स्वप्नों का श्राद्ध रचा। उसने थमती हिचकियों में अपना नाम बताया - ‘आसिफा’। और दुख के साथी की ठोड़ी थाम कर कहा - ‘मत रो, न्याय होगा।’ धरती की तरफ़ नन्ही गुलाबी उँगली दिखा कर कहा- “देख, भले लोग लड़ रहे है मेरे लिए, न्याय होगा। तेरे लिये भी लड़ रहे होंगे। तू मत रो” फिर बोली, “मैं पश्चिम से हूँ, तू पूरब से, पर हैं

बुद्धिजीवियों की बारात

बुद्धिजीवियों की बारात शरद जी रिटायर हो चुके थे। आधार का भय आधारहीन मान कर आधार बनवा चुके थे, और पेंशन प्राप्त कर के भोपाल मे जीवनयापन कर रहे थे। एक बार बिहार जा कर शरद जी नरभसा चुके थे, पुन: नरभसाने का कोई इरादा था नहीं, सो मामाजी के राज में स्वयं को सीमित कर के रखे हुए थे। इस्लाम आज कल ख़तरे मे नही आता था, संभवत: इमर्जेंसी के बाद से, इस्लाम सबल हो चुका था, और कल निपचती जींस और लोकतंत्र के ख़तरे मे रहने का दौर चल रहा था। न्यू मार्केट के कॉफ़ी हाऊस मे चंद बुद्धिजीवी लोकतंत्र पर आए संकट पर चर्चा कर लेते थे, जोशी जी वहाँ भी नहीं जाते थे। एक दफे वहाँ के मलियाली वेटर्स को जोशी जी के हिंदी लेखक होने का पता चल गया और उन्होंने जोशीजी को यिंदी यिम्पोजीशन के विरोध मे कॉफ़ी देने से मना कर दिया था। कहाँ शरदजी सरस्वती से ब्रह्मप्रदेश तक लिखना चाहते थे और कहाँ उन्हे बड़े तालाब के उत्तर भाग का लेखक घोषित कर दिया गया था। इस से क्षुब्ध जोशी जी अपने बग़ीचे मे टमाटर उगा रहे थे। जानने वाले कहते हैं कि इसके पीछे उनकी मँशा महान किसान नेता बन कर उभरने की थी, किंतु उन्हे पता चला कि आधुनिक किसान न

That Evil Ignorance- Rahul Gandhi and his Everyday Questions

“It is not the critic who counts; not the man who points out how the strong man stumbles, or where the doer of deeds could have done them better. The credit belongs to the man who is actually in the arena, whose face is marred by dust and sweat and blood; who strives valiantly; who errs, who comes short again and again, because there is no effort without error and shortcoming; but who does actually strive to do the deeds; who knows great enthusiasms, the great devotions; who spends himself in a worthy cause; who at the best knows in the end the triumph of high achievement, and who at the worst, if he fails, at least fails while daring greatly, so that his place shall never be with those cold and timid souls who neither know victory nor defeat.” - Theodore Roosevelt, American President 1901-1909 Rahul Gandhi  has again asked as question as to why the Soldiers martyred in the cowardly attack of the Chinese in the Galwan Valley did not carry weapons (ignoring that the treaty si