Skip to main content

As a tree leans on its leaves

Waking up
Next to you,
Is the most beautiful
Part of the day.
As I hold
You little palm
With my
Rough with age hands
They hide within them
Just as you hide
Your being in me
When I come back
From cities far away,
Just as you some years back
You were hidden
In the two fair palms
Which cupped
My weary palms
With distinct
cigarette marks on them
On an October day
At the Coffee house
In a sleepy town.
I hold those tiny hands
Of you
Adorned by
A faux watch shaped
Like a butterfly,
That is so like your soul
Ready to scout all the flowers of this world,
And smile-
As a tree
Leans on its leave
For its very existence.
- 24-02-2014 - A Sunday Morning Blessed by you


Comments

Rick Watson said…
I saw your post from Google + and hopped over to check out your blog. I blog too and would love to have you check mine out too.
Rick
Deb Fein said…
YOur blog is designed beautifully. I also love the visual imagery you put into a poignant love poem!
saket suryesh said…
Thanks Rick for dropping by. Hope you liked the blog. Do share your blog details, will sure visit.
saket suryesh said…
Thanks Deb. things which come out impromptu are usually the most beautiful one, if not for the world, at least for the one for whom it is written. So encouraging for you to have taken time to visit.

Popular posts from this blog

बुद्धिजीवियों की बारात

बुद्धिजीवियों की बारात
शरद जी रिटायर हो चुके थे। आधार का भय आधारहीन मान कर आधार बनवा चुके थे, और पेंशन प्राप्त कर के भोपाल मे जीवनयापन कर रहे थे। एक बार बिहार जा कर शरद जी नरभसा चुके थे, पुन: नरभसाने का कोई इरादा था नहीं, सो मामाजी के राज में स्वयं को सीमित कर के रखे हुए थे। इस्लाम आज कल ख़तरे मे नही आता था, संभवत: इमर्जेंसी के बाद से, इस्लाम सबल हो चुका था, और कल निपचती जींस और लोकतंत्र के ख़तरे मे रहने का दौर चल रहा था। न्यू मार्केट के कॉफ़ी हाऊस मे चंद बुद्धिजीवी लोकतंत्र पर आए संकट पर चर्चा कर लेते थे, जोशी जी वहाँ भी नहीं जाते थे। एक दफे वहाँ के मलियाली वेटर्स को जोशी जी के हिंदी लेखक होने का पता चल गया और उन्होंने जोशीजी को यिंदी यिम्पोजीशन के विरोध मे कॉफ़ी देने से मना कर दिया था। कहाँ शरदजी सरस्वती से ब्रह्मप्रदेश तक लिखना चाहते थे और कहाँ उन्हे बड़े तालाब के उत्तर भाग का लेखक घोषित कर दिया गया था। इस से क्षुब्ध जोशी जी अपने बग़ीचे मे टमाटर उगा रहे थे। जानने वाले कहते हैं कि इसके पीछे उनकी मँशा महान किसान नेता बन कर उभरने की थी, किंतु उन्हे पता चला कि आधुनिक किसान नेता किसानों को …

दो जोड़ी नन्ही आँखें

अनदेखे ख़्वाबों की दो जोड़ी नन्हीआँखें, जिन्होंने स्वप्न देखने की आयु से पूर्व दु:स्वप्न देख आँखें मूँद लीं। जो क़दम अभी चलना ही सीखे थे, लड़खड़ा कर थम गए।
बचपन के घुटने पर लगी हर खरोंच, व्यस्कों के गाल पर एक तमाचा है।

धर्म के आडंबरों से अछूता बाल मन जो मंदिरों और मस्जिदों को अपनी आत्मा में रखता था, धर्म की दरारों पर अपना नन्हा शव छोड़ निकल पड़ा। कहीं दूर,दग्ध शरीर के ताप से दूर, जब यह अकलुषित हृदय पहुँचा तो एक और निष्पाप दूधिया आत्मा दिखी, जिसकी पलकों के कोरों में उसकी आँखों के जैसे ही अविश्वास से सहमा हुआ अश्रु रूका था।

एक दूसरे के गले लग कर दोनों बाल मन दरिया के टूटे बाँध की तरह बह निकले। घाव बाँटे, एक दूसरे के हृदय में चुभी धरती की किरचें निकाली और न देखे हुए स्वप्नों का श्राद्ध रचा।

उसने थमती हिचकियों में अपना नाम बताया - ‘आसिफा’।

और दुख के साथी की ठोड़ी थाम कर कहा - ‘मत रो, न्याय होगा।’

धरती की तरफ़ नन्ही गुलाबी उँगली दिखा कर कहा- “देख, भले लोग लड़ रहे है मेरे लिए, न्याय होगा। तेरे लिये भी लड़ रहे होंगे। तू मत रो”

फिर बोली, “मैं पश्चिम से हूँ, तू पूरब से, पर हैं तो दोनों बच्चे। …

About Mahakali- The Eternal Mother

The strongest aspect of a woman, uncontested, unwinnable for a man is motherhood. Kali is the eternal, divine mother. She represents the silent darkness of the time when nothing was there, and from there, from darkness, from nothingness, she shaped life. She is every woman, every mother, which stands in darkness, so much so that she herself becomes darkness (Kali~ Darkness) and creates life, beholds life, births life and nourishes life. The light emerges from the darkness, and the colors rise from the lack of colors. She is the dark womb from where the feeble light of human life takes first breath. She is the consort of Mahakaal (Kaal-Death), Shiva- The lord of death, Mahakali. She is death. Hinduism celebrates life as well as death. Death being the moment, where we clean our slates and start afresh. Therefore, both death as well as life are intermingled, interconnected and interchangeable in their meaning. Death can be looked at as the end of life; can also be looked at as the beginn…