Skip to main content

The Solitude of an Only Child


She is kind
And soft and pink
Like the Cinderella, she adores.
Though unlike her
Glass slippers,
She wears a heart of glass,
A transparent, shining
But brittle heart.

The sun spreads out
On the terrace
With slothful arrogance,
As trees
With barren branches
Watch across the window
in melancholy.

I suddenly wake up
From the siesta,
To find her riding
Her bicycle on the terrace,
In circles
On a journey which
Takes her nowhere.

She rides in circles
And talks in riddles,
To herself,
Sometimes pretending to be
A teacher, sometimes a student
Like the princess
In the fable of sleeping princess
Doomed to the sixteen years
Of lonely growing up
In a forlorn fortress,
Albeit without even
The company of three
Loving fairies.

With an confounding
Feeling of affection and gloom
I watch her
As I recollect
The broken glass pieces
Spread randomly
Across the innards
Of my being,
A heart broken
Across the years of my own
Merciless, solitary childhood,
Which I have long since
Pretended never to have happened
But which
Returns to me
With a sadistic, evil smile on its face
And beats on the doors,
With ugly, heavy and hairy arms
As the weak latches
Shakes in the fear
Of impending defeat.

Will I, her father,
be able to transform
My self into one of those
Many coloured fairies,
And be a company to my child
Filling up her days
With companionship
Never leaving an empty, silent moment
In her life
Until she is old enough
For a handsome prince
To gallop across
On a dashing white horse
With grand mane,
To climb up the fortress walls
And kiss her out of a lonely childhood
And walk with her
Into the horizon
Beyond the rainbows;
Where the sounds
Of laughter, of music
And dancing with abandon
Flows agains the banter of friends
And glasses and cutleries clink
With welcome?

This is the question
Which I need to answer today
For her sake and mine.










Comments

I am a single daughter too and now a mom to a single child too but trust me it is not always a "doomed" space !!
Saket Suryesh said…
Yes Pooja, I agree not always. But on those occasions when you find yourself alone among siblings and are reminded of blood being thicker than blood, your loneliness hits you pretty hard. Thanks for the comment, do stay in touch .

Popular posts from this blog

बुद्धिजीवियों की बारात

बुद्धिजीवियों की बारात
शरद जी रिटायर हो चुके थे। आधार का भय आधारहीन मान कर आधार बनवा चुके थे, और पेंशन प्राप्त कर के भोपाल मे जीवनयापन कर रहे थे। एक बार बिहार जा कर शरद जी नरभसा चुके थे, पुन: नरभसाने का कोई इरादा था नहीं, सो मामाजी के राज में स्वयं को सीमित कर के रखे हुए थे। इस्लाम आज कल ख़तरे मे नही आता था, संभवत: इमर्जेंसी के बाद से, इस्लाम सबल हो चुका था, और कल निपचती जींस और लोकतंत्र के ख़तरे मे रहने का दौर चल रहा था। न्यू मार्केट के कॉफ़ी हाऊस मे चंद बुद्धिजीवी लोकतंत्र पर आए संकट पर चर्चा कर लेते थे, जोशी जी वहाँ भी नहीं जाते थे। एक दफे वहाँ के मलियाली वेटर्स को जोशी जी के हिंदी लेखक होने का पता चल गया और उन्होंने जोशीजी को यिंदी यिम्पोजीशन के विरोध मे कॉफ़ी देने से मना कर दिया था। कहाँ शरदजी सरस्वती से ब्रह्मप्रदेश तक लिखना चाहते थे और कहाँ उन्हे बड़े तालाब के उत्तर भाग का लेखक घोषित कर दिया गया था। इस से क्षुब्ध जोशी जी अपने बग़ीचे मे टमाटर उगा रहे थे। जानने वाले कहते हैं कि इसके पीछे उनकी मँशा महान किसान नेता बन कर उभरने की थी, किंतु उन्हे पता चला कि आधुनिक किसान नेता किसानों को …

दो जोड़ी नन्ही आँखें

अनदेखे ख़्वाबों की दो जोड़ी नन्हीआँखें, जिन्होंने स्वप्न देखने की आयु से पूर्व दु:स्वप्न देख आँखें मूँद लीं। जो क़दम अभी चलना ही सीखे थे, लड़खड़ा कर थम गए।
बचपन के घुटने पर लगी हर खरोंच, व्यस्कों के गाल पर एक तमाचा है।

धर्म के आडंबरों से अछूता बाल मन जो मंदिरों और मस्जिदों को अपनी आत्मा में रखता था, धर्म की दरारों पर अपना नन्हा शव छोड़ निकल पड़ा। कहीं दूर,दग्ध शरीर के ताप से दूर, जब यह अकलुषित हृदय पहुँचा तो एक और निष्पाप दूधिया आत्मा दिखी, जिसकी पलकों के कोरों में उसकी आँखों के जैसे ही अविश्वास से सहमा हुआ अश्रु रूका था।

एक दूसरे के गले लग कर दोनों बाल मन दरिया के टूटे बाँध की तरह बह निकले। घाव बाँटे, एक दूसरे के हृदय में चुभी धरती की किरचें निकाली और न देखे हुए स्वप्नों का श्राद्ध रचा।

उसने थमती हिचकियों में अपना नाम बताया - ‘आसिफा’।

और दुख के साथी की ठोड़ी थाम कर कहा - ‘मत रो, न्याय होगा।’

धरती की तरफ़ नन्ही गुलाबी उँगली दिखा कर कहा- “देख, भले लोग लड़ रहे है मेरे लिए, न्याय होगा। तेरे लिये भी लड़ रहे होंगे। तू मत रो”

फिर बोली, “मैं पश्चिम से हूँ, तू पूरब से, पर हैं तो दोनों बच्चे। …

The Myth of Mughal Greatness- Socio-Economic Analysis

Ye imaarat o Maqabir ye fasilein ye hisaar, Mutlaq-ul-hukm shahanshahon ki azmat ke sutoon; Seena-e-dahar ke nasoor hain kohna nasoor, Jazb hain unmein tere mere ajdaad ka khoon. 
– Sahir Ludhianvi
(Maqabir- Graves, hisaar- Fortress, Mutlaq-ul-hukm- Sovereign, azmat- Greatness, sutoon- Pillars, Seena-e-dahar-The chest of the world, kohna- Ancient, Azdaad- Ancestors)
The above couplet from Sahir’s famous Nazm, Taj Mahal, loosely translates as below:
“These grand graves, and these high-walls of the majestic fortresses, Are the pillars of the brutal majesty of the sovereign dictators. These gaping wounds are the ancient wounds on the breast of the world, Mingled with the ugly pus and the oozing bloods of our common ancestors.”
In today’s world where the intellectual mind stands divided on communal lines with even daughters of noted Urdu poets like Munawwar Ranaproudly declaring first to be a Muslim and then to be an India, it is no wonder that these couplets of Sahir, a proud secularist India rem…