Skip to main content

An Eloquent Silence

A silence descends over us as we age. As we grow, we start classifying words as meaningless and purposeful. Those defined as meaningless, struggle hard to keep their dignity with feigned grace and feigned deafness as people call them names. Life breathes through those puerile words and they struggle hard to keep breathing. 

This struggle between adult meaningfulness and childish happy play continues till the time those meaningless words of vigor, hope and sensitivity start dying, alphabet by alphabet. We then, devoid of the brightness of those lovely words, stand in the gray, darkness with angry winds of silence bellowing with feral fury. We are left with wise words which descend far and between and even they loose relevance in a while and stop visiting. 

What you speak, what you write may not change the world, may not bring earth-shattering changes to your life. They do not exist to serve you. They are the butterflies on the sunny days to fill them with beauty and fireflies in the dark night to bring a sense of life into the dead of the night. Don't insist on the meaning of every word, do not search the purpose for them. Their beauty is their purpose. They are complete unto themselves. Speak to me softly my friend, for conversation must not die. It has been long since someone has asked me how I was and really meant it. My heart seeks that conversation as it unashamedly watches a phone which is as cold and as uncaring as the world. Give me some words. Give me a friend with whom even silence could be eloquent.

Literature and Reading

Comments

Popular posts from this blog

बुद्धिजीवियों की बारात

बुद्धिजीवियों की बारात
शरद जी रिटायर हो चुके थे। आधार का भय आधारहीन मान कर आधार बनवा चुके थे, और पेंशन प्राप्त कर के भोपाल मे जीवनयापन कर रहे थे। एक बार बिहार जा कर शरद जी नरभसा चुके थे, पुन: नरभसाने का कोई इरादा था नहीं, सो मामाजी के राज में स्वयं को सीमित कर के रखे हुए थे। इस्लाम आज कल ख़तरे मे नही आता था, संभवत: इमर्जेंसी के बाद से, इस्लाम सबल हो चुका था, और कल निपचती जींस और लोकतंत्र के ख़तरे मे रहने का दौर चल रहा था। न्यू मार्केट के कॉफ़ी हाऊस मे चंद बुद्धिजीवी लोकतंत्र पर आए संकट पर चर्चा कर लेते थे, जोशी जी वहाँ भी नहीं जाते थे। एक दफे वहाँ के मलियाली वेटर्स को जोशी जी के हिंदी लेखक होने का पता चल गया और उन्होंने जोशीजी को यिंदी यिम्पोजीशन के विरोध मे कॉफ़ी देने से मना कर दिया था। कहाँ शरदजी सरस्वती से ब्रह्मप्रदेश तक लिखना चाहते थे और कहाँ उन्हे बड़े तालाब के उत्तर भाग का लेखक घोषित कर दिया गया था। इस से क्षुब्ध जोशी जी अपने बग़ीचे मे टमाटर उगा रहे थे। जानने वाले कहते हैं कि इसके पीछे उनकी मँशा महान किसान नेता बन कर उभरने की थी, किंतु उन्हे पता चला कि आधुनिक किसान नेता किसानों को …

दो जोड़ी नन्ही आँखें

अनदेखे ख़्वाबों की दो जोड़ी नन्हीआँखें, जिन्होंने स्वप्न देखने की आयु से पूर्व दु:स्वप्न देख आँखें मूँद लीं। जो क़दम अभी चलना ही सीखे थे, लड़खड़ा कर थम गए।
बचपन के घुटने पर लगी हर खरोंच, व्यस्कों के गाल पर एक तमाचा है।

धर्म के आडंबरों से अछूता बाल मन जो मंदिरों और मस्जिदों को अपनी आत्मा में रखता था, धर्म की दरारों पर अपना नन्हा शव छोड़ निकल पड़ा। कहीं दूर,दग्ध शरीर के ताप से दूर, जब यह अकलुषित हृदय पहुँचा तो एक और निष्पाप दूधिया आत्मा दिखी, जिसकी पलकों के कोरों में उसकी आँखों के जैसे ही अविश्वास से सहमा हुआ अश्रु रूका था।

एक दूसरे के गले लग कर दोनों बाल मन दरिया के टूटे बाँध की तरह बह निकले। घाव बाँटे, एक दूसरे के हृदय में चुभी धरती की किरचें निकाली और न देखे हुए स्वप्नों का श्राद्ध रचा।

उसने थमती हिचकियों में अपना नाम बताया - ‘आसिफा’।

और दुख के साथी की ठोड़ी थाम कर कहा - ‘मत रो, न्याय होगा।’

धरती की तरफ़ नन्ही गुलाबी उँगली दिखा कर कहा- “देख, भले लोग लड़ रहे है मेरे लिए, न्याय होगा। तेरे लिये भी लड़ रहे होंगे। तू मत रो”

फिर बोली, “मैं पश्चिम से हूँ, तू पूरब से, पर हैं तो दोनों बच्चे। …

About Mahakali- The Eternal Mother

The strongest aspect of a woman, uncontested, unwinnable for a man is motherhood. Kali is the eternal, divine mother. She represents the silent darkness of the time when nothing was there, and from there, from darkness, from nothingness, she shaped life. She is every woman, every mother, which stands in darkness, so much so that she herself becomes darkness (Kali~ Darkness) and creates life, beholds life, births life and nourishes life. The light emerges from the darkness, and the colors rise from the lack of colors. She is the dark womb from where the feeble light of human life takes first breath. She is the consort of Mahakaal (Kaal-Death), Shiva- The lord of death, Mahakali. She is death. Hinduism celebrates life as well as death. Death being the moment, where we clean our slates and start afresh. Therefore, both death as well as life are intermingled, interconnected and interchangeable in their meaning. Death can be looked at as the end of life; can also be looked at as the beginn…