Skip to main content

Metro On A Morning


Getty Images
Steel Capsule
Like a bullet
In search of some heart,
some flesh to 
inflict a magnificent wound.

Carrying in its womb
Captives of the cubicles.
Tall, Grotesque buildings
Silent, watchful and unfeeling,
Like gestapos,
Unsmiling, glassy faces, 
Cold and Smooth, on which
Humanity cannot find feet
ever. 

We walk, fellow passengers,
Like prisoners of our chosen fate.
We don't look at one another
when we do, accidentally
we don't smile,
pretending to be 
the part of metallic enclosure
which holds us. 

The station,
a solemn, bored voice 
speaks at us,
like a curse thrown in our direction,
Phase III Metro Station,
and we take out our beings

A husband, a wife,
a father, a mother,
we take our being in our sweaty palms
sweat, threatening to melt away
the lines of destiny
ready to barter it 
for a number, a card
which is our identity.

Another day of 
captivity to our cubicles awaits,
A remorseless day,
explodes with rare reticence, 
no word, no voices,
keyboard clicks,
and the pawns and kings
Dance,
To the depressing 
rhythm of Drudgery.

Each king is a pawn 
and each Pawn a king
At one level
and Another.
The Nimble noises
of people talking on phone,
Assuring urgent arrivals
and urgent surrender of self,
The rumbling of train
splicing through the soul.

(c) Saket Suryesh, 2015

Comments

Popular posts from this blog

दो जोड़ी नन्ही आँखें

अनदेखे ख़्वाबों की दो जोड़ी नन्हीआँखें, जिन्होंने स्वप्न देखने की आयु से पूर्व दु:स्वप्न देख आँखें मूँद लीं। जो क़दम अभी चलना ही सीखे थे, लड़खड़ा कर थम गए। बचपन के घुटने पर लगी हर खरोंच, व्यस्कों के गाल पर एक तमाचा है। धर्म के आडंबरों से अछूता बाल मन जो मंदिरों और मस्जिदों को अपनी आत्मा में रखता था, धर्म की दरारों पर अपना नन्हा शव छोड़ निकल पड़ा। कहीं दूर,दग्ध शरीर के ताप से दूर, जब यह अकलुषित हृदय पहुँचा तो एक और निष्पाप दूधिया आत्मा दिखी, जिसकी पलकों के कोरों में उसकी आँखों के जैसे ही अविश्वास से सहमा हुआ अश्रु रूका था। एक दूसरे के गले लग कर दोनों बाल मन दरिया के टूटे बाँध की तरह बह निकले। घाव बाँटे, एक दूसरे के हृदय में चुभी धरती की किरचें निकाली और न देखे हुए स्वप्नों का श्राद्ध रचा। उसने थमती हिचकियों में अपना नाम बताया - ‘आसिफा’। और दुख के साथी की ठोड़ी थाम कर कहा - ‘मत रो, न्याय होगा।’ धरती की तरफ़ नन्ही गुलाबी उँगली दिखा कर कहा- “देख, भले लोग लड़ रहे है मेरे लिए, न्याय होगा। तेरे लिये भी लड़ रहे होंगे। तू मत रो” फिर बोली, “मैं पश्चिम से हूँ, तू पूरब से, पर हैं

बुद्धिजीवियों की बारात

बुद्धिजीवियों की बारात शरद जी रिटायर हो चुके थे। आधार का भय आधारहीन मान कर आधार बनवा चुके थे, और पेंशन प्राप्त कर के भोपाल मे जीवनयापन कर रहे थे। एक बार बिहार जा कर शरद जी नरभसा चुके थे, पुन: नरभसाने का कोई इरादा था नहीं, सो मामाजी के राज में स्वयं को सीमित कर के रखे हुए थे। इस्लाम आज कल ख़तरे मे नही आता था, संभवत: इमर्जेंसी के बाद से, इस्लाम सबल हो चुका था, और कल निपचती जींस और लोकतंत्र के ख़तरे मे रहने का दौर चल रहा था। न्यू मार्केट के कॉफ़ी हाऊस मे चंद बुद्धिजीवी लोकतंत्र पर आए संकट पर चर्चा कर लेते थे, जोशी जी वहाँ भी नहीं जाते थे। एक दफे वहाँ के मलियाली वेटर्स को जोशी जी के हिंदी लेखक होने का पता चल गया और उन्होंने जोशीजी को यिंदी यिम्पोजीशन के विरोध मे कॉफ़ी देने से मना कर दिया था। कहाँ शरदजी सरस्वती से ब्रह्मप्रदेश तक लिखना चाहते थे और कहाँ उन्हे बड़े तालाब के उत्तर भाग का लेखक घोषित कर दिया गया था। इस से क्षुब्ध जोशी जी अपने बग़ीचे मे टमाटर उगा रहे थे। जानने वाले कहते हैं कि इसके पीछे उनकी मँशा महान किसान नेता बन कर उभरने की थी, किंतु उन्हे पता चला कि आधुनिक किसान न

Analyzing the Analysts- Failed Attempts to Understanding the Modi Magic

  " When a writer tries to explain too much, he is out of time before he begins. " wrote Isaac Bashevis Singer, 1978 Nobel Winning writer. As year wraps to an end and Bengal Elections are around the corner, Analysts are jumping over one another to analyze the way politics panned out over this Pandemic-ridden unfortunate and sad year.  When you go through most of the analysis, you find them dipping into the froth floating at the top. They often develop the hypothesis first then try to fit the data. This gap between interpretation and data leads to their conclusions mostly turning way off the mark. The most common and prevalent hypothesis that is being currently floated is that those who support Narendra Modi are some sort of fanatic army, which has no reason to support him and which are loyal to him in the most retrograde terms. For that very reason, Narendra Modi, in return, cares only about those who voted for him and no one else. While there is no proof of Narendra Modi app