Skip to main content

Resurrecting Hinduism- Without Embarrassment

I have been pondering about the sense of despondency, the sense of shame which has been imposed on the Hindu thoughts in Indian society. Every act of faith has to be explained, justified. When partition happened, Muslims fought and obtained an independent Nation, while the other large chunk of population, which, in spite of numerical supremacy, was subjugated for centuries, got India. In line with inherent openness and flexibility of Hinduism, India became a secular nation. This is a matter of pride, since it acknowledged the basic secular nature of Sanatan Dharm. However, as things would evolve, vested political interests considered India as unfinished agenda standing in the path of a religious empire being built world-wide. Through a well-calculated intellectual conspiracy of neglect and vilification, it came to a stage that modern Hindus where embarrassed of their religion and apologetic of their faith. This neglect also resulted in the religion being left to the guardianship of unworthy people, who gained power through rogue ritualistic society, which was totally inconsistent with Hinduism. We are not the people of the book, we are the people of intellect, who are to write new books for newer times. This fluidity, this ability to re-invent ourselves is a matter of our pride. Ours is a nation built on rational thought and intense intellect.We cannot allow ourselves to be either fanatic or apologetic. Let us be a proud scholar. That is what Hindutva is. When every matter of our faith is being questioned, every ritual being trampled for political reasons, we need to rise above mockery and regain the moral position which once belonged to us. As a religion to restrict itself to answering inner, existential question in stead of being a tool of polity, when we prayed environment, the water, the trees, the animals. We are the nation of Adi Yogi, the Pashupati, the ArdhNarishwar. Animal Rights, secularism and feminism is essence of Hinduism and are not foreign concepts. Let us once again be proud of it. Here is my poem. Hope you will like it. Faith is always internal, fanaticism is always external. Faith wins by being steadfast and unapologetic; fanaticism wins by defeating competing faiths. 

मैं हिन्द का हिन्दू बच्चा हूँ

मैं हिन्द का हिन्दू बच्चा हूँ 
मैं शांत हूँ किन्तु सच्चा हूँ 
ये देश मेरा, सब लोग मेरे 
पर संकोची सा रहता हूँ 
छुप छुप के मंदिर जाता हूँ 
'हे राम' भी मन में कहता हूँ। 

इस देश के बौद्धिक लोगों ने 
वो शर्म सिखाई हैं मुझको 
सदियों का गौरव मिटा दिया 
वो हार पढ़ायी है मुझको। 

जो घंटों की झंकार तले 
 हर शाम को दीप जलाता है,
जो लाल सिंदूरी पत्थर पर 
श्रध्दा से शीश नवाता है। 

मैं ज्ञान का प्यासा भिक्षुक हूँ 
मैं घाट भोर की कासी का ,
मैं बस्तर का गणपति-भक्त, मित्र 
मैं अक्षुण दर्प बनवासी का। 

मैं केरल से आया शंकर हूँ 
मैं अटल, अटूट, निरंतर हूँ। 
मैं महाकाल की मस्ती हूँ 
जो उजड़ बसी वह बस्ती हूँ। 

संस्कृत का स्मरण नहीं मुझको 
अंग्रेज़ी ने मुझे अपनाया नहीं। 
तुम शब्द-वीर, मैं सरल सत्य 
मैं सत्ता केंद्र में आया नहीं। 

संपादक का स्नेह नहीं मुझको 
साहित्य में मेरा स्थान नहीं। 
वह धर्म जो सदियों रहा अमर 
उस धर्म का मुझे ही ज्ञान नहीं। 

एक मूक बधिर कोलाहल हूँ 
एक लज्जित सा इतिहास हूँ मैं। 
केशव का गीता सार हूँ मैं 
या अनवरत राम - वनवास हूँ मैं। 

सिंह- मित्र बाल भरत  हूँ मैं 
या भूला हुआ दुष्यंत हूँ मैं। 
भारतवर्ष का नव-आरम्भ हूँ मैं 
या आर्यव्रत का अंत हूँ मैं। 

यह मौन कभी जो मुखर हुआ 
यह मलिन कभी जो प्रखर हुआ 
यह तुमसे मुझसे पूछेगा 
क्यों खुद पे तुम शर्मिंदा हो 
एक बार तो कह दो ज़िंदा हो। 

(c) Saket Suryesh


Post a Comment

Popular posts from this blog

कांग्रेस संत समागम - Congress Sant Samagam

आज रात्रि जब प्रात:काल डिम्पल बाबा जागे, उनका हृदय नई ऊर्जा से प्रकाशमान था। कल ही काँग्रेस कार्यकारिणी ने उनकी तुलना किसी अचार से की थी और ध्वनिमत से सनातन धर्म का रक्षक बताया था। डिम्पल बाबा के बताया गया था कि अचार बनने के बाद हिंदू धर्म ध्वजा की रक्षा का दायित्व उन पर बैठता है। बाबा को खुद को पिकल कहा जाना पसंद तो नहीं आया था और वह जानना चाहते को अति उत्सुक थे कि ये हिंदू पिकल का इतना सम्मान क्यों करते हैं। हालाँकि डिम्पल बाबा के उत्साह का सबसे बड़ा कारण यह था कि ब्रह्मऋषि डिम्पल घोषित होने का बाद वह सामाजिक मर्यादाओं से इतर हो गए थे, और बक़ौल बाल ऋषि पूनावाला उन्हें भाँग गाँजा की निर्बाध व्यवस्था का अधिकार था। बालऋषि के अनुसार- राहुल जी इज जस्ट लाईक दैट डूड फ्राम माऊँटेन- शिव। सोच कर ही महर्षि डिम्पल के शरीर मे फुरेरियाँ उठी। नानी ने जब पवित्र वेटिकन के जल से ब्लेसित किया था तब उन्हें कहाँ भान होगा कि एक दिन उनका पौत्र हिंदू धर्म की दिशा तय करेगा। 
बहरहाल नव-नियुक्त ब्रह्मऋषि डिम्पल बाबा ने, घड़ी को देखा। बारह बज गए थे और प्रात: सूर्य वंदना का समय था। रोलेक्स राजर्षि को भी अब पहुँच…

लँगड का एमाराई

(Hindi Satire, inspired by immortal writing of late  Shri Shrilal Shukl and his legendary Novel- Rag Darbari)


लंगडवा एम आर आई करवाने का सोच रहा था। फिर सोचा पता नहीं मशीन कहाँ कहाँ से जुड़ी होगी।

खन्ना मास्टर लंगडवा के उहापोह को बड़े ध्यान से देख रहे थे। ग़रीब का कष्ट अमीर को सदा ही ध्यानाकर्षक लगता है। उसी में उसकी आत्मा का उद्धार और राजनीति का चमत्कार छुपा होता है। खन्ना मास्टर जवान और जोशीले थे। चमकीली वास्केट पहनते थे, और गंजहा की जगह ख़ुद को गंजावाला कहलाना पसंद करते थे।

गंजावाला अपना चश्मा लहराते बालों में धकेल कर, मनुहार के लहजे में बोले - “जाओ हो, काहे घबराते हो? कब तक वैद जी के पीछे घूमते रहेगे? क़स्बा क्लीनिक जा कर एमाराई करा लो।”

“हमको थोड़ा डर लग रहा है।”

लंगडवा गंजावाला के उत्साह से भयभीत हो गया। अमीर आदमी ग़रीब के सुख में अचानक रुचि लेने लगे तो अक्सर ग़रीब के लिए भय और भ्रम का कारण होता है। एक राजकुमार पहले उत्साहित हुए थे तो जवाँ मर्द कंबल और ट्राजिस्टर प्राप्त कर के लौटे थे। उसके बाद उनके घर कभी किलकारियाँ नही सुनाई पड़ी , बस मुफ़्त के रेडियो में बिनाका गीत माला सुनाई पड़ती…

Know the Naxals- A brief look at the History

There have been many debates of late on the television, in the wake of the arrests of those who are now increasingly mentioned as the Urban Naxals. I am both shocked and amused at the same time to look at the audacity of the sympathizers of Naxal terrorism, in all their starched Saris and handloom Kurtas, when they hide behind the same constitution, that the want to overthrow. They are shrill, sophisticated, eloquent and deriding. They hate the common folks, and their disdain for those who work, create and make a living, peeps through their elitist smiles. They are mostly ideologues (yes, that is some work for sustenance in the modern scheme of things), academics and well, ostensibly, writers and poets. The fact remains that when communism is the scheme of things, Naxal notices mentioning Jan Adaalats in the villages of Chattisgarh too become work of art, and corpses hanging from the electricity poles, become equivalent of art work on the roof of Sistine chapel.
The other day, Ms. Arun…