Skip to main content

सैनिक का उत्तर- A Soldier's Response




"It is true that the intellect by itself is no virtue....An intellectual person can be a good man but he may easily be a rogue. Similarly an intellectual class may be a band of high-souled persons, ready to help, ready to emancipate erring humanity or it may easily be a gang of crooks.."
                            - Dr. B. R. Ambedkar

The problem of too much of intellectualism is that it runs a serious danger of turning narcissistic and base. A strong intellect without a sense of morality will make worse of human beings for they can explain, define and defend basest of their actions and thoughts. Dr. Partha Chatterjee, Professor at Columbia University, has suddenly become a known face all across India by scathing criticism he has heaped on the Chief of Indian Army General Bipin Rawat. He has compared the Army Chief with British General Dyer. It is difficult to understand how the context of Major Gogoi using a Stone-pelter (who also made Shawls) to avoid needless bloodshed to compare General Rawat with General Dyer, who shot dead over 300 citizens in cold blood. General Dyer had also placed a condition for Indians to crawl in a patch of street of around 200 feet, but that is another matter. A good writing is meant to provoke and unfortunately some writers would even a lie to provoke to avoid hard effort of getting down to the ground. Our intellectual world sadly, is at a loss since we do not have Hemingways to go to the front to write about war. A soldier is bound by discipline and cannot reply to crafty, cruel and crude allegations. Therefore, as a citizen, I take it as my duty to respond. 

Here it is. 



सैनिक का उत्तर


पूछते हो प्रश्न तुम, बस मौन है उत्तर मेरा।
योद्धा हूँ तो क्यूँ समझते हो हृदय
पत्थर मेरा।

जब प्रलय सा मेह बरसा, 
जलमग्न हुई थी ये धरा,
निष्पाप मन से था उपस्थित
मैं संतरी बन कर खड़ा।

जिस मनुज के पास हो
नन्ही सी इक तलवार भी,
सहन करता कौन मानव
छोटा सा इक प्रहार भी?

पाषाण की बौछार में भी
शाँत मेरा शस्त्र था।
विश्वास था, उस ओर भी
शत्रु नहीं एक मित्र था।

तुम समझते हो कि मैं मानव नहीं
इक यंत्र हूँ,
यज्ञ की इक आहुति हूँ,
रामबाण इक मंत्र हूँ।

मैं भी पिता का पुत्र हूँ, 
माता का इक संबल हूँ मैं,
पुत्री का मैं भी तात हूँ, 
सिन्दूर हूँ, आँचल हूँ मैं।

समय के इस क्रूर समर में
शाँत शौर्य का धर्म हूँ मैं।
राष्ट्र का सूचक हूँ मैं
इस मातृभूमि का मर्म हूँ मैं।

शब्दों के कुटिल कवि
तुमसे मेरा क्या मेल है।
मेरे लिये है राष्ट्र गौरव
आपको सब खेल है।

शब्दों के निर्लज्ज द्वन्द में
झुका दोगे भला क्या सर मेरा?
मस्तक है यह इस राष्ट्र का,
बस मौन है उत्तर मेरा।

      - साकेत

Comments

Popular posts from this blog

बाल विवाह - हिंदू इतिहास और सत्य

  इतिहास का लेखन उसकी विसंगतियों की अनुक्रमिका नहीं वरन उसके समाज के आम रूप से स्वीकृत मान्यताओं एवं उस समाज के जननायकों द्वारा स्थापित मानदंडों के आधार पर होना चाहिए। परंतु जब लेखनी उन हाथों में हो जिनका मंतव्य शोध नहीं एक समाज को लज्जित करना भर हो तो समस्या गहन हो जाती है। जब प्रबुद्ध लोग कलम उठाते हैं और इस उद्देश्य के साथ उठाते हैं कि अप्रासंगिक एवं सदर्भहीन तथ्यों के माध्यम से समाज की वर्ग विभाजक रेखाओं को पुष्ट कर सकें तो हमारा कर्तव्य होता है कि हम सत्य को संदर्भ दें और अपने इतिहास के भले बुरे पक्षों को निर्विकार भाव से जाँचें।   बीते सप्ताह बाल विवाह को लेकर विदेशी सभ्यता में उठे प्रश्नों को भारत की सभ्यता पर प्रक्षेपित करके और उसकी स्वीकार्यता स्थापित करने पर बड़ी चर्चा रही। इस संदर्भ में   श्री ए एल बाशम से ले कर राजा राम मोहन रॉय तक चर्चा चली। बाशम की पुस्तक द वंडर दैट वाज इंडिया - को उद्धृत कर ले कहा गया कि हिं

कायस्थ- इतिहास एवं वर्तमान परिपेक्ष्य

सत्यम , दानम , क्षमा शीलमानृशंस्य तपो घृणा। दृश्यंते यत्र नागेंद्र स ब्राह्मण इति स्मृतः।। ( हे सर्पराज , जिसमें सत्य , दानशीलता , क्षमा , क्रूरतारहित भाव , तप एवं संवरण , एवं संवेदना हो , वह मनुष्य को ही ब्राह्मण मानना चाहिए। ) शुद्रे तु यद् भवेल्लक्षम द्विजे तच्च न विद्दयते। न वै शूद्रों भवेच्छुद्रो ब्रह्मणो न च ब्राह्मण : ।। ( यदि शूद्र में यह गुण हैं ( सत्य , दान , अक्रोध , अहिंसा , तप , संवरण एवं संवेदना ) और ब्राह्मण में यह गुण परिलक्षित ना हों तो वह शूद्र शूद्र नहीं , ब्राह्मण है ; और वह ब्राह्मण ब्राह्मण नहीं है। )  - युधिष्ठिर - नहुष संवाद , अजगर कांड , महाभारत , वन पर्व   वर्तमान परिपेक्ष्य में जिसे जाति कहा जाता है , वह वर्ण व्यवस्था का विकृत रूप है। सनातन धर्म का वर्ण जहाँ समाज को व्यवसाय एवं क्षमता के अनुरूप व्यवस्थित करने का प्रयास था और कर्म पर आधारित था , जाति उसी व्यवस्था का विघटित रूप बन कर जन्मगत व्यवस्था बन गई। जाति या कास्ट पुर्तगाल

Pathaan and Polarisation- Movie Review

Many have not seen Pathan, I have. I have a huge tolerance towards stupid movies and I love to watch all sort of movies. What has bothered me most about Pathaan is that in terms of content and characterisation, it is absolutely shoddy, much worse than much lampooned RaOne AND there is no review which openly tells you about it.  Most reviewers have reviewed the movie like a teenager, gushing over VFX generated body of ShahRukh Khan. This reminds me of my schoolmates bunking classes to watch tomato-sauce-laced movies of Ramsey brothers, gushing over semi-nude voluptuous actresses in the late 80s. Only difference being that those were school kids in class XII, with raging hormones and a stupefied intellect when a world around them was fast changing. Here we have middle-aged professional movie reviewers guiding people to their way in or out of Movie theatres. Their primary argument in favour of the movie is nothing but beefed up Shahrukh Khan and the gap between his earlier movie and this